How to live life freely

How to live life freely

Live life freely Quotes


Live life freely Meaning

दुनिया के कई बड़े बड़े मैनेजमेंट गुरु ने इंटेलिजेंस की नई परिभाषा दी है उनके अनुसार फ्लैक्सिबिलिटी टू चेंज यानी स्थितियां यह बदलाव के अनुकूल होकर काम खत्म करनी ही सही बुद्धिमानी है।

Live life freely Meaning

How to live life freely – जापान में कोई भी प्रजाति की मछली होती है इसकी एक अजीब सी विशेषता है जन्म के समय यह एक डेढ़ इंच की होती है इसे अगर टब में रखकर पाला जाए तो यह जीवन में सिर्फ 2 या 3 इंच तक ही बढ़ती है। वहीं अगर इसे किसी वाटर टैंक या टब में रखें तो यह 8 से 10 इंच तक बढ़ती है। और अगर इसे किसी बड़ी तालाब में पाला जाए तो यह दो-तीन फुट तक बड़ी हो जाती हैं। वैज्ञानिक दसको तक यही सोचते कि उसी प्रजाति की मछली का विकास अलग-अलग तरह से कैसे हो सकता है।

How to live life freely – Click Here

शोध में सामने आया है कि मछली दरअसल परिवेश के आधार पर खुद के विकास की सीमित कर लेती है या समेट लेती है और उसी सोच के आधार पर उसका शारीरिक विकास तय होता है। अगर आप ने तय कर लिया कि यह मेरी सीमा है तो विकास भी उसी सीमित दायरे में होगा और सोच लिया कि आप को बढ़ने से कोई नहीं रोक सकता तो फिर असीमित ग्रोथ कर सकते हैं।

Live life freely Meaning

लेकिन जीवन की इस ग्रुप में हमारा एटीट्यूड भी बहुत मायने रखता है हम जीवन में कर्म के सिद्धांत को सबसे ऊपर रखते हैं लेकिन काम में एटीट्यूड से भी परिणाम तय होते हैं अगर आपके मन में विचार आया कि काम 2 सेकंड बाद करूंगा तो यह आलस की निशानी है। कौन से जुड़ा पहला एटीट्यूड होना चाहिए कल का काम आज, आज का काम अभी।

तभी आप महान काम कर पाएंगे दुनिया के महान लोगों की आत्मकथा से भी यही सार निकल कर आया है । दूसरा एटीट्यूड समय का सही इस्तेमाल होना चाहिए। प्रमुख स्वामी महाराज एक बार कोयंबटूर से कहीं जा रहे थे रेलवे स्टेशन पर ट्रेन 15 मिनट लेट थी इस बीच उन्होंने जिज्ञासु के पत्र निकाल कर पढ़ना शुरू कर दिए एक अखियां हैं स्वामी महाराज डेंटिस्ट के यहां गए वहां 1:30 मिनट के बैटिंग पीरियड में भी उन्होंने दो पत्र पर डालें अब आप खुद से सवाल करिए कि खाली समय में अब कैसा एटीट्यूड रखते हैं।

Live life freely MeaningClick Here

हम जम्हाई लेते हुए मोबाइल में व्यस्त हो जाते हैं महान लोग अपने समय के मिली सेकंड तक का इस्तेमाल करते हैं और हम घंटों दिनों का इस्तेमाल ही नहीं करते हैं तीसरी बात है हम अपना शेड्यूल तय करना दिन में कम से कम दो-तीन दिन काम का शेड्यूल जीवन भर वही बनाए रखें। इससे बाकी गतिविधियां का समय अपने आप टाइप कर या सुधर जाएगा प्रमुख स्वामी महाराज अपने जीवन में 40 साल तक सुबह 6:40 पर वाकिंग के लिए आए उनके कई कामों का समय फिक्स था इस तरह आप अपना शेड्यूल बना सकते हैं,

Live life freely Meaning

How to live life freely – Click Here

Live life freely quotes

कहते हैं कि जीवन में कम खाएंगे तो शरीर स्वस्थ रहेगा और गुस्सा नहीं करेंगे तो जीवन अच्छा रहेगा। अब भावनात्मक रूप से कितने मजबूत है यह तभी पता चलेगा जब कोई आपका अपमान करेगा समाज में बोलने वाले कम है नहीं है हमेशा चालू रहेगा सवाल है कि आपका डिफेंस कितना मजबूत है जीवन में अपना कहना भी सीखें वरना छोटी छोटी बातों में आपका मूड डिस्टर्ब हो जाएगा हमारा मन कितना निर्बल है कि किसी के नहीं मुस्कुराने पर हम गुस्सा हो जाते हैं 50 फ़ीसदी जीवन तो पानी में व्यर्थ चला जाता है क्योंकि हमें पता ही नहीं होता कि क्या कर रहे हैं इसके अलावा खुद को बदलने के लिए तैयार रहिए।Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.